उन्नीस सालों में कई उतार चढ़ाव के गवाह बने शिक्षामित्र तारीखों के आईने में योजना

यूपी में बेसिक शिक्षा या शिक्षक भर्ती की चर्चा शिक्षामित्रों के बगैर पूरी नहीं हो सकती। पिछले 19 सालों से प्रदेश के एक लाख 13 हजार से अधिक प्राथमिक स्कूलों में पढ़ा रहे 1.50 लाख से अधिक शिक्षामित्र सहायक अध्यापक पद पर नियुक्ति के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इन्हीं की याचिका पर दो दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने 69 हजार भर्ती में 37,339 पद खाली रखने का आदेश दिया है। आइए शिक्षामित्रों की पूरी कहानी जानते हैं।
शिक्षकों की कमी से जूझ रही प्रदेश सरकार ने शिक्षा के सार्वभौमीकरण का लक्ष्य पाने के लिए शिक्षामित्र योजना लागू की थी। इसके बाद चयन समेत अन्य औपचारिकताएं पूरी होने में तकरीबन डेढ़ साल लगे और जनवरी-फरवरी 2001 से शिक्षामित्रों की नियुक्ति ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों में 2250 रुपये मानदेय पर की गई।
न्यूनतम अर्हता इंटरमीडिएट रखी गई थी। हालांकि यह योजना पूर्ण रूप से एक जुलाई 2001 से शुरू हुई। स्कूलों में पढ़ाई शुरू करने से पहले शिक्षामित्रों को एक महीने का प्रशिक्षण दिया गया, जिसके लिए उन्हें उस एक महीने के लिए 400 रुपये मानदेय दिया गया। पिछली सरकार ने बगैर टीईटी शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक पद पर समायोजित करने का निर्णय लिया। समायोजन के पहले उनका मानदेय 3500 था जबकि शिक्षक बनने के बाद तकरीबन 28 हजार रुपये वेतन मिलने लगा और 27 जुलाई 2017 को जब सुप्रीम कोर्ट से समायोजन निरस्त हुआ तो उस वक्त उन्हें लगभग 40 हजार रुपये वेतन मिल रहा था। समायोजन निरस्त होने के बाद सरकार ने अगस्त 2017 में उनका मानदेय 3500 से बढ़ाकर 10000 रुपये कर दिया और उसी मानदेय पर वे पिछले तीन सालों से प्राथमिक स्कूलों में पढ़ा रहे हैं।
तारीखों के आईने में शिक्षामित्र योजना

26 मई 1999 को शिक्षामित्र योजना लागू करने का आदेश जारी ’
01 जुलाई 2001 को योजना का विधिवत क्रियान्वयन ’
अक्तूबर 2005 में मानदेय 2250 से बढ़ाकर 2400 रुपये हुआ ’
15 जून 2007 को मानदेय 2400 से बढ़ाकर 3000 रुपये किया ’
2006-2007 सत्र से नगर क्षेत्र में भी शिक्षामित्र योजना लागू ’
11 जुलाई 2011 को अप्रशिक्षित शिक्षामित्रों को दूरस्थ विधि से द्विवर्षीय प्रशिक्षण का आदेश ’
23 जुलाई 2012 को प्रशिक्षण के बाद शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक बनाने का निर्णय हुआ ’
07 जनवरी 2013 को समायोजन के तीन चरणों के लिए समय सारिणी जारी ’
19 जून 2014 को प्रथम बैच के 58826 शिक्षामित्रों के समायोजन का आदेश हुआ ’
08 अप्रैल 2015 को द्वितीय बैच के 91104 शिक्षामित्रों के समायोजन का आदेश जारी ’
06 जुलाई 2015 को सुप्रीम कोर्ट ने सहायक अध्यापक पद पर समायोजन से रोक लगाई ’
12 सितंबर 2015 को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने समायोजन निरस्त किया ’
07 दिसंबर 2015 को सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगाई ’
27 जुलाई 2017 को सर्वोच्च न्यायालय ने 1.37 लाख शिक्षामित्रों का समायोजन निरस्त किया ’
अगस्त 2017 में प्रदेश सरकार ने शिक्षामित्रों का मानदेय 3500 से बढ़ाकर 10000 किया

69000 : सूची जारी होते ही काउंसलिंग के लिए विभिन्न जनपदों को रवाना होंगे अभ्यर्थी

प्रयागराज। परिषदीय विद्यालयों में 69 हजार शिक्षक भर्ती के लिए जिला आवंटन की सूची सोमवार को जारी कर दी जाएगी। काउंसलिंग तीन से छह जून तक आयोजित की जाएगी। ऐसे में जिला आवंटन की सूची जारी होते ही अभ्यर्थियों को काउंसलिंग के लिए संबंधित जिलों की ओर रवाना होना होगा। काउंसलिंग स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद की ओर से जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए गए हैं।
शिक्षक भर्ती में न्यूनतम अर्हता अंक पाने वाले अभ्यर्थियों ने अपने आवेदन में वरीयता क्रम में 75 जिलों के विकल्प भरे हैं। जिला आवंटन की सूची जारी होने के बाद प्राप्तांक, भारांक और वरीयता के आधार पर तय हो जाएगा कि अभ्यर्थियों को काउंसलिंग के लिए किस जिले में जाना है। जिन अभ्यर्थियों की काउंसलिंग तीन जून को होगी, उन पर काउंसलिंग स्थल पर पहुंचने के लिए सबसे अधिक दबाव होगा। अगर कोई दूर का जिला आवंटित होता है तो अभ्यर्थियों के पास वहां पहुंचने के लिए दो दिनों का वक्त होगा, जबकि चार, पांच एवं छह जून की काउंसलिंग में शामिल होने के लिए अभ्यर्थियों को थोड़ा अतिरिक्त समय मिल जाएगा।
प्रयास यही होगा कि काउंसलिंग वाले दिन ही नियुक्ति पत्र दे दिया जाएगा और अगर ऐसा नहीं हो सकता तो अभ्यर्थियों को इसके लिए अगले दिन का इंतजार करना होगा। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद विजय शंकर मिश्र की ओर से जारी दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि कोरोना वायरस से बचाव के मद्देनजर काउंसलिंग स्थल पर सोशल डिस्टेंसिंग की उचित व्यवस्था की जाए। काउंसलिंग स्थल पर स्थानीय पुलिस प्रशासन से व्यवस्था हेतु कहा है।

पाठकों के सुझाव आमंत्रित हैं।

प्रिय पाठक,

  आप सभी के सहयोग और स्नेह के लिए आप सभी का धन्यवाद।
शिक्षामित्र ऐप के लाखों में पाठक होने के उपलक्ष्य में आप सभी को आभार तथा धन्यवाद .
छठवीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में हमने अधिक से अधिक सेवाएं पहुँचाने का संकल्प लिया है। जिसके लिए आप के सुझाओं को आमंत्रित किया गया है। कृपया हमें बताएं कि हम इस ऐप के माध्यम से और किस प्रकार की सेवाएं प्रदान कर सकते हैं। कृपया अधिक से अधिक लोग अपने सुझाव दें।

सुझाव देने के लिए सुझाव पर क्लिक करें-         सुझाव दें  

 

 

 

 

हमारा ऐप – शिक्षामित्र 

69000 : कट ऑफ बढ़ने के बाद भी सफल हो गए ज्यादा

प्रयागराज। 69 हजार शिक्षक भर्ती में प्रदेश सरकार की ओर से कट ऑफ पूर्व की अपेक्षा 40 और 45 फीसदी बढ़ाकर 60 और 65 फीसदी कर देने के बाद भी अधिक अभ्यर्थी सफल हो गए। टीईटी पास बीएड वालों को मौका दिए जाने के बाद प्रतियोगिता बढ़ने से अचानक मेरिट बढ़ गई और पूर्व के 46000 की अपेक्षा 1.46 लाख अभ्यर्थी सफल हो गए।देखा जाए तो इस भर्ती में एक लाख अधिक दावेदार हो गए प्रदेश सरकार की ओर से 2018 में हुई में हुई 68500 शिक्षक भर्ती में कुल 1.25 लाख अभ्यर्थी परीक्षा में शामिल हुए, इसमें दो चरणों में परिणाम घोषित करने के बाद भी लगभग 46 हजार अभ्यर्थी सफल हुए।